News

भारत स्वच्छ अभियान

भारत स्वच्छ अभियान में 6 नगरों को माॅडल ष्षहर के रूप में चुना है जिसमें आगरा, मथुरा, अयोध्या, बनारस है मुख्य।

मैंने चुना है आगरा को।

  • कार्य करने की तीन प्रणाली – एक्जीक्यूटिव, जूडिषियरी एवं सिविल सोसायटी।
  • सिविल सिटीजन फोरम बनाकर की जाये प्रभावी कार्यवाही – बाबा हरदेव सिंह।
  • महानगर विकास की योजना में सिटीजन फोरम का हो इनवाॅलमेंट।
  • मौलिक अधिकार के साथ समझें मौलिक कर्तव्य को भी।
  • स्वच्छता अभियान के तीन सिस्टम।
  1. जागरूकता
  • जन सामान्य में उत्पन्न करें जागरूकता।
  • अपना घर,

उद्योगों की स्थापना हेतु अधिग्रहीत भूमि को फ्रीहोल्ड किये जाने संबंधी नीति-2016

1. नई पाॅलिसी का उद्यमियांे ने किया विरोध।
2. यह कवेल बड़े ही उद्यमियों को ही होगा लाभ।
3. एक हेक्टेयर से अधिक अधिग्रहीत भूमि की कंपनियांे को ही लाभ।
4. छोटे उद्यमियों के साथ अन्याय।
5. एमएसएमई इकाइयाँ अधिकांषतः नीति के लाभ से बाहर।
6. या तो बीमार इकाइयाँ या विधिक बाध्यता के कारण न चलने वाली कंपनियों को ही लाभ।
7. चैम्बर ने की मांग – कड़े श्रम से चलायी जाने वाली एमएसएमई इकाइयों को भी मिले इस नीति का लाभ।
8.

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी डा0 रामकरन जी के साथ बैठक

आज दिनांक 29-06-2016 को सायं 5 बजे जीवनी मंडी स्थित चैम्बर सभागार में चैम्बर अध्यक्ष अषोक कुमार गोयल की अध्यक्षता में उ0प्र0 प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी डा0 रामकरन जी के साथ एक बैठक का आयोजन किया गया जिसमें पर्यावरण सुरक्षा एवं प्रदूषण नियंत्रण प्रकोष्ठ के चेयरमैन सुनील सिंघल द्वारा क्षेत्रीय प्रबंधक महोदय को 6 सूत्रीय प्रतिवेदन प्रेषित किया गया (प्रति संलग्न)। क्षेत्रीय अधिकारी महोदय द्वारा प्रतिवेदन के सभी बिंदुओं को बड़े ही ध्यान पूवर्क सुना और उन पर यथासंभव सकारात्मक कार्यवाही करने का आष्वासन दिया।

1.

आय घोषणा योजना 2016

यह भगवान का दिया हुआ अवसर है आप इसमें सहयोग करें और देष के विकास में बने भागीदार – अनुराधा मिश्रा, प्रधान आयकर आयुक्त।

आयकर विभाग ने बतायी माननीय प्रधानमंत्री जी की मन की बात।

  • नागरिकों को नहीं माने कर चोर।
  • उन्हें मानें हैंग हैंडलिंग।
  • 125 करोड में से केवल 5 करोड हैं करदाता।
  • 1.5 लाख करदाता है 50 लाख से ऊपर।
  • यह सूचना उत्पन्न करती है संदेह।
  • 30 सितम्बर तक अघोषित आय को घोषित करने का स्वर्णिम अवसर।
  • जितनी आय की घोषणा करेंगे विभाग उसे ही मान लेगा सही।
  • किसी भी प्रकार की नहीं होगी पूछताछ।
  • सूचना रखी जायेगी गोपनीय।
  • किसी दूसरी एजेंसी को नहीं दी जायेगी कोई जानकारी।
  • आय की घोषणा करनी होगी एक बार –